प्रेरणादायक कहानियाँ

दो युवाओं ने बनाया फ़्रीलांसिंग की दुनिया का सबसे बड़ा ऑनलाइन बाज़ार-Fiverr Success Story in Hindi

शेयर करें:-
  • 14
  •  
  •  
  •  
  •  
  • 1
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    15
    Shares

What is Fiverr ? पेशेवर फ़्रीलांसरों के बीच बेहद लोकप्रिय प्लैटफ़ॉर्म है – ‘फ़ाइवर’ (Fiverr) जो फ़्रीलान्सिंग की दुनिया से संबंध रखने वाले लोगों के लिए एक ऑनलाइन बाज़ार है।

पहले समय में बहुत कम लोग freelancing में दिलचस्पी लिया करते थे। तब ज़्यादातर पेशेवर लोग अपनी नौकरी से अलग ख़ाली समय मिलने पर कभी-कभार अलग से किसी प्रोजेक्ट पर काम कर लिया करते थे। उस समय पूरी तरह से फ़्रीलान्सिंग के ज़रिये आजीविका कमाने के बारे में सोचना भी असंभव था।

लेकिन बदलते वक़्त और तकनीक के नवीनीकरण के साथ ही लोगों के काम करने के तरीके में भी बहुत बदलाव आया है। अब दुनिया के किसी भी कोने में रहकर आप अपने देश में ही नहीं बल्कि किसी दूसरे देश की कंपनी या क्लाइंट के लिए बड़ी ही आसानी से काम कर सकते हैं।

बीते कुछ वर्षों में फ़्रीलान्सिंग और आउटसोर्सिंग का चलन बहुत तेज़ी से बढ़ा है। लेखन, संपादन, अनुवाद, डिज़ाइनिंग, संगीत, कला, मीडिया, कंप्यूटर प्रोग्रामिंग, वेब डेवलपमेंट जैसे कई व्यावसायिक क्षेत्र हैं जिनमें आज के समय में फ़्रीलांस सेवा देने वाले पेशेवर लोगों की बहुत ज़्यादा माँग है।

अब आप अनेकों ऐसे प्रोफ़ेशनल्स से मिल सकते हैं जो केवल फ़्रीलान्स सेवा देकर ही अपनी आजीविका कमाते हैं। और यक़ीन मानिये उनकी आमदनी परंपरागत नौकरी या व्यवसाय करने वालों के मुक़ाबले किसी तरह से कम नहीं!

ऐसे ही पेशेवर फ़्रीलांसरों के बीच बेहद लोकप्रिय प्लैटफ़ॉर्म है – ‘फ़ाइवर’ (Fiverr freelance) जो फ़्रीलान्सिंग की दुनिया से संबंध रखने वाले लोगों के लिए एक ऑनलाइन बाज़ार (online marketplace) की तरह काम करता है। 

A post shared by Micha Kaufman (@michakaufman) on

कॉमर्स से प्रेरित होकर रखी फ़ाइवर की नींव

फ़्रीलांस सेवाओं के क्षेत्र में दुनिया के सबसे बड़े ऑनलाइन प्लैटफ़ॉर्म के रूप में प्रसिद्ध ‘फ़ाइवर’ (Fiverr) एक इज़राइली कंपनी है। इसकी स्थापना 1 फ़रवरी 2010 को इज़राइल के तेल अवीव शहर में रहने वाले दो दोस्तों, मीख़ा कॉफ़मैन (Micha Kaufman) और शाई वीनिंगर (Shai Wininger) ने मिलकर की थी।

दोनों दोस्त युवा उद्यमी थे और इससे पहले भी कई ऑनलाइन व्यवसाय स्थापित कर चुके थे।

एक बार उन्होंने विचार किया कि क्यों ना एक ऐसा ऑनलाइन प्लैटफॉर्म तैयार किया जाये जिस पर फ़्रीलान्स सेवायें उतनी ही आसानी से उपलब्ध हों, जितनी आसानी से लोग ईबे और आमेज़ॉन जैसी ई-कॉमर्स वेबसाइटों से सामान ख़रीदते हैं। जो ऐसा प्लैटफ़ॉर्म हो जिसके ज़रिये दुनिया के किसी भी कोने में रहने वाले पेशेवर लोग अपने कौशल के अनुसार घर बैठे ही काम कर सकें।

उनके उस विचार ने ही फ़ाइवर की नींव रखी। जल्द ही दोनों ने मिलकर अपनी इस योजना पर काम करना शुरू कर दिया और किसी की मदद लिए बिना ख़ुद ही अपनी वेबसाइट तैयार की।

इस प्लैटफ़ॉर्म पर उपलब्ध सभी फ़्रीलांस सेवाओं की फ़ीस उन्होंने 5 डॉलर निर्धारित की और इसका नाम ‘फ़ाइवर’ रखा। 

A post shared by Micha Kaufman (@michakaufman) on

फ़्रीलांस सेवाओं का buy-sell करने वालों को मिला एक ऑनलाइन बाज़ार

मीख़ा और शाई ने शुरूआत में फ़ाइवर का प्रचार करने के लिए ना तो कहीं कोई विज्ञापन दिया और ना ही पूँजी जुटाने के लिए वे किसी निवेशक से मिले।

उन्होंने अपने दोस्तों को अपनी इस नई वेबसाइट ‘फ़ाइवर’ बारे में बताया। उसके बाद उनके दोस्तों ने अपने दोस्तों को बताया और इसी तरह इस वेबसाइट की जानकारी ज़्यादा से ज़्यादा लोगों तक पहुँचती गई।

इसी प्रचार का नतीज़ा था कि कुछ हफ़्तों के भीतर ही उनकी वेबसाइट पर विभिन्न क्षेत्रों से संबंधित फ़्रीलांसर पंजीकृत(register) होने लगे।

फ़ाइवर की स्थापना होने से एक ऐसा ऑनलाइन बाज़ार अस्तित्व में आया जो फ़्रीलांस सेवा देने वाले फ़्रीलांसरों और उनकी सेवा लेने वाले व्यावसायिक संगठनों दोनों के लिए ही लाभकारी था।

एक ओर इसके ज़रिये व्यावसायिक संगठन अपनी ज़रुरत के अनुसार उपयुक्त फ़्रीलांस सेवा का चुनाव कर सकते थे। वहीं दूसरी ओर फ़्रीलांसर घर बैठे अपनी योग्यता के अनुसार काम कर सकते थे।

ग्राहकों के साथ ही निवेशकों का भी भरोसा जीता

फ़ाइवर पर सभी फ़्रीलांस सेवायें उत्पादों की तरह एक निर्धारित मूल्य पर उपलब्ध होने के कारण यह प्लैटफ़ॉर्म कामकाजी लोगों को पसंद आया। साथ ही यह निवेशकों का भरोसा जीतने में भी क़ामयाब रहा।

अपनी स्थापना के कुछ ही महीनों बाद कंपनी को क्यूबिट इंवेस्टमेंट्स से 10 लाख डॉलर के निवेश की प्राप्ति हुई। बाद के वर्षों में भी अन्य कई सीरीज़ में भी यह पर्याप्त फंड जुटाने में सफ़ल रहा है।

2012 में फ़ाइवर पर 13 लाख से अधिक सेवायें सूचीबद्ध थीं। अगले वर्षों में भी इसे काफी लोकप्रियता मिली और इसके उपयोगकर्ताओं की संख्या में भी अच्छी खासी वृद्धि हुई।

दिसंबर 2013 और मार्च 2014 में फ़ाइवर की क्रमशः iOS ऐप और एंड्रॉयड ऐप मार्किट में लॉन्च हुई जिससे मार्किट में इसकी पहुँच में बढ़ोत्तरी हुई।

5 डॉलर के निर्धारित मूल्य के लिए हुई आलोचना

फ़ाइवर पर उपलब्ध हर फ़्रीलांस सेवा को ‘गिग’ कहा जाता है। इस प्लैटफ़ॉर्म पर पंजीकृत(registered) फ़्रीलांसर अपनी सेवा को एक उत्पाद की तरह पूरे विवरण के साथ इस पर सूचीबद्ध करते हैं। (How does fiverr work?)

2014 में फ़ाइवर को इसकी हर गिग के लिए निर्धारित किये गए 5 डॉलर के मूल्य के लिए काफी आलोचनाओं का सामना करना पड़ा।

विशेषकर कम्पनी के फ़ेसबुक पेज पर साझा किये गए बहुत ही कम दामों पर ग्राफ़िक सेवाएं उपलब्ध कराने के विज्ञापन के लिए इसकी सार्वजनिक आलोचना हुई।

लोगों का मानना था कि अच्छी गुणवत्ता वाली सेवा के लिए 5 डॉलर का निर्धारित मूल्य बहुत ही कम है। हर तरह की सेवा के लिए एक ही मूल्य निर्धारित होना इस प्लैटफ़ॉर्म पर पंजीकृत सभी सेवा प्रदाताओं के लिए उपयुक्त नहीं था।

2015 में फ़ाइवर ने अपने प्लैटफ़ॉर्म से जुड़ने वाले सभी फ़्रीलांसरों को 5 डॉलर के न्यूनतम मूल्य से ऊपर अपनी इच्छानुसार अपनी सेवा का मूल्य निर्धारित करने का अधिकार प्रदान किया।

फ़्रीलांस सेवाओं के क्षेत्र में वैश्विक स्तर पर बनाई पहचान

कभी दो दोस्तों की एक पहल से शुरू हुए फ़ाइवर को आज फ्रीलान्स सेवाओं के क्षेत्र में दुनिया के सबसे बड़े ऑनलाइन प्लैटफ़ॉर्म के रूप में जाना जाता है।

फ़ाइवर पर सेवा प्रदाता आठ प्रमुख श्रेणियों – ग्राफ़िक्स एवं डिज़ाइन, डिजिटल मार्केटिंग, लेखन एवं अनुवाद, वीडियो एवं एनीमेशन, संगीत एवं ऑडियो, प्रोग्रामिंग एवं तकनीक, व्यवसाय तथा मनोरंजन एवं जीवनशैली में अपनी सेवाएँ दे सकते हैं।

इनमें से प्रत्येक श्रेणी की भी कई उप-श्रेणियाँ हैं। इस तरह कुल मिलाकर पंजीकृत सदस्यों के लिये 100 से भी अधिक श्रेणियों में अपनी सेवाएं प्रदान करने के विकल्प उपलब्ध हैं।

इस प्लैटफ़ॉर्म के साथ पंजीकृत सेवा प्रदाता को अपनी सेवा को तीन प्रारूपों में अलग-अलग मूल्यों के साथ सूचीबद्ध करना होता है। हर प्रारूप की सेवा के लिए वह अपनी इच्छानुसार 5 डॉलर से लेकर 995 डॉलर तक का मूल्य निर्धारित कर सकता है।

फ़ाइवर पर पंजीकरण कराना और अपनी सेवा सूचीबद्ध करना निःशुल्क है। हर एक गिग के सफ़लतापूर्वक पूरा होते ही सेवा प्रदाता के अकाउंट में उसकी सेवा के निर्धारित मूल्य की 80% धनराशि ट्रांसफर कर दी जाती है। ऐसा इसलिए क्योंकि इस प्लैटफ़ॉर्म के ज़रिये होने वाले प्रत्येक लेनदेन का 20% फ़ाइवर को मिलता है।

साथ ही फ़्रीलांस सेवा प्रदाताओं के लिए ‘फ़ाइवर प्रो’ और फ़्री इनवॉयस सॉफ़्टवेयर ‘AND CO’ की भी सुविधायें उपलब्ध हैं।

Business kahani की राय

भारत में भी अनेकों लोग फ़ाइवर की सुविधा का लाभ उठाकर अपनी सेवायें दुनियाभर में प्रदान करते हैं। फ़ाइवर के जरिये सेवा प्रदान करना अपने आप में स्वतंत्र रूप से बिज़नेस करने जैसा है जहाँ आप अपनी काबिलियत के जरिये नियमित रूप से पैसा कमा सकते हैं। ऐसा ऑनलाइन बाज़ार बनाकर पूरी दुनिया की कुशलता को एक प्लैटफार्म पर लाने से करोडों लोगों को फायदा पहुंचा है और यही कारण है फ़ाइवर को स्टार्टअप की दुनिया में एक सफल कंपनी के रूप में देखा जाता है। यदि आप किसी बिज़नेस आइडिया पर काम कर रहें हैं तो हमेशा ग्राहकों/उपयोगकर्ताओं की जरूरतों को ध्यान में रखकर ही आगे बढ़ें। ग्राहक खुश होंगे तो बिज़नेस को सफल बनने से कोई नहीं रोक सकता है।

आशा करते हैं कि यह कहानी आपको पसंद आयी होगी और आप इसको शेयर करके दूसरों को भी लाभ लेने का मौका देंगे।

 

हमारे मेलिंग सूची के लिए सब्सक्राइब करें।

सब्सक्राइब करने के लिए धन्यवाद!

कुछ गलत हो गया..


शेयर करें:-
  • 14
  •  
  •  
  •  
  •  
  • 1
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    15
    Shares

कमेन्ट करें