प्रेरणादायक कहानियाँ

एक ऐसा photo sharing app जो बना facebook की आँखों का तारा – Brbn से Instagram तक का सफर

शेयर करें:-
  • 5
  •  
  •  
  •  
  •  
  • 1
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    6
    Shares

आपका पहला रोमांचक ट्रिप हो या जीत में मिली पहली ट्रॉफ़ी, आपकी मनमोहक मुस्कान हो या आपका नया हेयरस्टाइल, दोस्तों के साथ की गई मस्ती हो या आपकी किसी मनपसंद जग़ह का ख़ूबसूरत सफ़र, जिंदगी के ऐसे यादगार पलों को तस्वीरों में संजोकर रखने का अपना एक अलग ही मज़ा है। और बात जब इन लम्हों को अपने परिवार, दोस्तों और सोशल मीडिया पर शेयर करने की हो तो सबसे पहले ‘इंस्टाग्राम’ (Instagram) का नाम ही ज़हन में आता है।

इंस्टाग्राम एक ऑनलाइन फ़ोटो और वीडियो शेयरिंग सोशल मीडिया प्लैट्फॉर्म है। इसके द्वारा आप फ़ोटो, वीडियो, लाइव वीडियो और विज़ुअल स्टोरीज़ को बहुत ही आसान, रचनात्मक और रोचक ढंग से अपनों के साथ और अगर चाहें तो पूरी दुनिया के साथ भी शेयर कर सकते हैं।

2010 में लॉन्च हुए इस मोबाईल ऐप की लोकप्रियता का अंदाज़ा इसी बात से लगाया जा सकता है कि दुनिया भर में आज इसके 80 करोड़ से भी ज़्यादा उपभोक्ता हैं, जिनमें अनेकों मशहूर व्यक्तित्व भी शामिल हैं। इतना ही नहीं, अकेले भारत में ही इंस्टाग्राम के 4.30 करोड़ से भी ज़्यादा उपयोग करने वाले हैं।

A post shared by Mike Krieger (@mikeyk) on

इंस्टाग्राम के सह-संस्थापक : केविन सिस्ट्रम और माइक क्रीगर 

कैसे हुई इंस्टाग्राम की शुरुआत? How did it all start?

सफ़लता की हर कहानी की शुरुआत अक्सर कुछ अनूठे अनुभवों और किस्सों से होती है। और कुछ ऐसा ही इंस्टाग्राम के साथ भी हुआ था। इस सोशल प्लैट्फॉर्म के संस्थापक( the instagram founder) केविन सिस्ट्रम (Kevin Systrom) को बचपन से ही तस्वीरों से बेहद लगाव था और फ़ोटोग्राफ़ी का शौक़ भी।

30 दिसंबर 1983 को मैसाचुसेट्स, यू.एस.ए. में जन्मे केविन के पिता एक कंपनी के मानव संसाधन विभाग में कार्यरत थे और माँ एक कंपनी के मार्केटिंग विभाग में काम करती थीं।

स्कूल के दिनों में पहली बार केविन को कंप्यूटर प्रोग्रामिंग के बारे में पता चला। वीडियो गेम्स खेलने और अपने आप गेम के नए लेवल बनाने के साथ ही धीरे-धीरे केविन का रुझान टेक्नोलॉजी की ओर बढ़ता गया।

वे अक्सर अपने दोस्तों के साथ हंसी-मज़ाक करने के लिए कंप्यूटर प्रोग्राम्स तैयार किया करते थे। हाई स्कूल के दौरान केविन का इरादा डीजे (डिस्को जॉकी) बनने का भी था। जब कॉलेज में एडमिशन लेने का समय आया तो केविन ने स्टैनफ़र्ड यूनिवर्सिटी को चुना।

उन्होंने दाखिला तो कंप्यूटर साइंस में लिया, पर जल्द ही मैनेजमेंट साइंस और इंजीनियरिंग में स्थानांतरण करा लिया। वहाँ एक फ़ेलोशिप प्रोग्राम के तहत उन्हें 2005 में ऑडिओ (Odeo) में 4 महीने की इंटर्नशिप करने का मौका मिला। आपको बता दें कि ऑडिओ (Odeo) ही आगे जा के ट्विटर (Twitter) बना।

2006 में पढ़ाई पूरी होने के बाद केविन ने ‘एसोसिएट प्रॉडक्ट मैनेजर’ के पद पर गूगल ज्वाइन किया और Gmail, Google Calendar, Docs, Spreadsheets जैसे कई प्रॉडक्ट्स पर काम किया। दो साल बाद वे गूगल की ‘कॉर्पोरेट डेवलपमेंट टीम’ का हिस्सा बन गए।

लेकिन केविन का मन हमेशा से ही सोशल मीडिया से जुड़ा कुछ काम करने का था। आख़िरकार जनवरी 2009 में उन्होंने गूगल की नौकरी छोड़ दी और ‘नेक्स्टस्टॉप डॉट कॉम’ (Nextstop.com) नामक एक स्टार्टअप को बतौर प्रॉडक्ट मैनेजर ज्वाइन कर लिया।

गूगल के भूतपूर्व कर्मचारियों द्वारा स्थापित यह कंपनी अपने ग्राहकों को पर्यटन सम्बंधित सलाह देती थी। यहाँ केविन को कोड लिखने, ऐप-स्टाइल प्रोग्राम बनाने और तस्वीरों से जुड़े गेम्स बनाने का मौका मिला।

इसी दौरान केविन को यह अहसास हुआ कि उनका असल रुझान उद्यमिता (Entrepreneurship) की ओर है। इसके लिए केविन को अपने फ़ोटोग्राफ़ी के शौक़ और सोशल शेयरिंग की इच्छा को एक साथ मिलाकर नया प्रॉडक्ट बनाने का आइडिया बेहतरीन लगा। उनके इस विचार के साथ ही इंस्टाग्राम की नींव पड़नी शुरू हुई।

केविन अपने ख़ाली समय में इस आइडिया पर काम करते थे। कुछ समय बाद उन्होंने एक ऐप ‘बर्बएन’ (Burbn) बनाकर तैयार किया। इस ऐप के लिए दो वेंचर कैपिटल कंपनियों ने मिलकर 5 लाख डॉलर की पूँजी दी और केविन ने नौकरी छोड़कर पूरा ध्यान इस ऐप पर लगाना शुरू कर दिया।

‘बर्बएन’ को आगे बढ़ाने के लिए केविन को एक सह-संस्थापक की तलाश थी जो स्टैनफ़र्ड के ही उनके पुराने साथी माइक क्रीगर (Mike Krieger) पर जाकर ख़त्म हुई।

A post shared by Mike Krieger (@mikeyk) on

बर्बएन से इंस्टाग्राम तक का सफ़र / Burbn  to Instagram

माइक को भी केविन का आइडिया और ‘बर्बएन’ बेहद पसंद आया। बस फ़िर क्या था, दोनों ने मिलकर इस पर काम करना शुरू कर दिया। जल्द ही ‘बर्बएन’ एक ऐसा प्रॉडक्ट बन गया जिसमें उपयोगकर्ताओं के लिए लोकेशन चेक-इन और फ्यूचर चेक-इन प्लान के साथ ही तस्वीरें पोस्ट करने और दोस्तों के साथ हैंगआउट करने के लिए पॉइंट्स इकट्ठा करने जैसी कई विशेषताएँ थीं।

इतनी सारी विशेषताओं के बावजूद लोकप्रिय होते हुये भी यह ऐप बहुत ज़्यादा सफ़ल साबित नहीं हुआ।

केविन ने गौर किया कि बर्बएन में कई फ़ीचर्स होने के बाद भी ग्राहक उसका ज़्यादातर इस्तेमाल तस्वीरें पोस्ट करने के लिए ही करते थे। तब केविन और माइक ने सिर्फ़ फ़ोटो शेयरिंग और एडिटिंग पर ध्यान देते हुए एक नया ऐप बनाने के बारे में सोचा और इसके साथ ही ‘इंस्टाग्राम’ (Instagram) का जन्म हुआ।

हांलाकि, इंस्टाग्राम का सबसे लोकप्रिय फ़ोटो पर फ़िल्टर डालने वाला फीचर अभी भी केविन और माइक के दिमाग में नहीं था। फ़िल्टर डालने का आइडिया केविन को उनकी मंगेतर निकोल (Nicole) से मिला क्योंकि निकोल को किसी दोस्त का दूसरे ऐप में फ़िल्टर वाला फोटो बहुत पसंद आया था। आपको बता दें कि निकोल अब केविन की पत्नी हैं।

निकोल ने केविन को बोल दिया था कि यदि फ़िल्टर डाल के फोटो को सुन्दर बनाने का फ़ीचर उनके ऐप में नहीं होगा तो वे ऐप नहीं डाउनलोड करेंगी। और फिर मंगेतर से फ़िल्टर का आइडिया पाकर केविन ने इसको अपने ऐप में डालने का फैसला लिया जो आज इंस्टाग्राम की सफ़लता का बहुत बड़ा कारण है।

इंस्टाग्राम फ़ोटो शेयरिंग और एडिटिंग पर आधारित मोबाइल ऐप है जिसमें तस्वीरों को सुन्दर और आकर्षक बनाने वाले कई फ़िल्टर्स हैं। इस ऐप के द्वारा कुछ ही सेकंड में साधारण कैमरे या मोबाइल से भी लिए हुए फ़ोटो को एक प्रोफेशनल फ़ोटो की तरह बनाया जा सकता है।

Embed from Getty Images

केविन और निकोल  की तस्वीर 

लॉन्च होते ही लोकप्रिय हो गया इंस्टाग्राम / Popular soon after launch

6 अक्टूबर 2010 को ‘इंस्टाग्राम’ को लॉन्च करते समय केविन और माइक को शायद यह अंदाज़ा नहीं था कि अगले कुछ घंटों में उन्हें क्या सरप्राइज़ मिलने वाला है। लॉन्च के साथ ही इंस्टाग्राम लोगों का ध्यान खींचने में सफ़ल रहा।

कुछ ही घंटों में 10,000 से भी ज्यादा लोगों ने इंस्टाग्राम को डाउनलोड कर लिया। और इसके उपयोगकर्ताओं की संख्या इतनी तेज़ी से बढ़ रही थी कि केविन और माइक अगले कई घंटों तक सर्वर को दुरुस्त रखने में लगे रहे।

इंस्टाग्राम की लोकप्रियता का आलम यह था कि 2011 में इसे ‘आई फ़ोन ऐप ऑफ़ द ईयर’ चुना गया। इसके साथ ही इस साल इंस्टाग्राम को अन्य कई पुरस्कारों से सम्मानित किया गया और इसके दोनों सह-संस्थापकों, केविन और माइक, को भी काफ़ी लोकप्रियता हासिल हुई।

आज इंस्टाग्राम के दुनिया भर में 80 करोड़ से भी ज़्यादा उपयोगकर्ता हैं। ख़ासतौर से युवा वर्ग के बीच यह ऐप बहुत ज़्यादा लोकप्रिय है।

दो साल में ही फ़ेसबुक द्वारा अधिग्रहण/ Acquisition by facebook

2004 में जब केविन स्टैनफ़र्ड यूनिवर्सिटी में अंडरग्रेजुएट थे तब फ़ेसबुक के फाउंडर मार्क ज़करबर्ग़ ने उन्हें अपनी कंपनी में नौकरी देने का प्रस्ताव भेजा था लेकिन तब अपनी पढ़ाई पूरी करने के लिए केविन ने उसको अस्वीकार कर दिया था। तब शायद उन्होंने यह सोचा भी नहीं होगा कि भविष्य में एक दिन वे फ़ेसबुक के साथ डील करेंगे।

2012 में इंस्टाग्राम की लोकप्रियता इतनी बढ़ गयी कि फेसबुक के अनेकों उपभोक्ता फोटो शेयरिंग के लिए इंस्टाग्राम पर जाने लगे जिससे फेसबुक के मालिक मार्क ज़करबर्ग़ के आँखों से नींद उड़ने लगी।

इसके अलावा मशहूर सोशल मीडिया कंपनी ट्विटर (Twitter) की निगाहें भी इंस्टाग्राम को खरीदने पर लगी हुई थीं। ट्विटर ने 500 मिलियन डॉलर का प्रस्ताव भी भेज दिया जिसकी वजह से मार्क ज़करबर्ग़ की चिंता और भी बढ़ गयी।

हालांकि, केविन और माइक का मन सेकोया (Sequoia) नामक वेंचर कैपिटल कंपनी से पैसा लेकर स्वतंत्र रूप से ही काम करने का था।

इन परिस्थितियों को देखते हुए मार्क ज़करबर्ग़ ने केविन और माइक के सामने 1 बिलियन डॉलर में कंपनी को खरीदने का प्रस्ताव रखा। इतने अच्छे प्रस्ताव को इंस्टाग्राम के संस्थापकों ने स्वीकार करने का फैसला लिया और इसके साथ ही इंस्टाग्राम फ़ेसबुक का एक हिस्सा बन गया।

इस सौदे में फेसबुक ने उनको पूरी स्वतंत्रा से काम करने का भी करार किया। वर्तमान में केविन सिस्ट्रम इंस्टाग्राम के सीईओ (CEO) और माइक क्रीगर इसके सीटीओ (CTO) हैं।

Business kahani की राय

हर दिन 25 करोड़ से भी ज़्यादा फोटो और कहानियाँ इंस्टाग्राम के ज़रिये शेयर की जाती हैं। ‘इंस्टाग्राम’ की कहानी आज बिज़नेस जगत की सबसे सफ़ल कहानियों में से एक है और स्टार्टअप या बिज़नेस की दुनिया में नाम कमाने की चाहत रखने वाले उद्यमियों के लिए प्रेरणा का स्रोत है।

ज्यादातर उद्यमी बिज़नेस शुरू करते समय सभी विशेषताएं एक ही प्रॉडक्ट में डालने के लिए उतावले रहते हैं जबकि ग्राहकों को शायद इतना सब कुछ नहीं चाहिए होता है। बर्बएन से इंस्टाग्राम बनने की कहानी इसका बहुत अच्छा उदाहरण है।

आपको हमेशा ध्यान देना चाहिए और विश्लेषण करना चाहिए कि कौन सी बात ग्राहकों को लुभा रही है और उसी को बढ़िया बनाकर पूरी कंपनी बनाई जा सकती है।

आपको यह कहानी कैसी लगी? क्या आप इंस्टाग्राम पर फ़ोटो शेयर करते हैं? क्या आपको इंस्टाग्राम पसंद है या कोई दूसरा ऐप?

नीचे कमेंट करके हमें जरुर बतायें।

 

 

हमारे मेलिंग सूची के लिए सब्सक्राइब करें।

सब्सक्राइब करने के लिए धन्यवाद!

कुछ गलत हो गया..


शेयर करें:-
  • 5
  •  
  •  
  •  
  •  
  • 1
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    6
    Shares

कमेन्ट करें