व्यापार मंत्र

क्या आप व्यापार के लिए पूँजी जुटाना चाहते हैं ? सीखिए एक अच्छी इन्वेस्टर पिच डेक (Pitch Deck) बनाना.

शेयर करें:-
  • 15
  •  
  •  
  •  
  •  
  • 1
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    16
    Shares

यदि आप व्यवसाय के लिए पैसे जुटाने वाले हैं तो निवेशक के सामने एक प्रभावशाली प्रस्तुति (Presentation) इस प्रयास का बहुत महत्वपूर्ण हिस्सा है. इस प्रस्तुति के वर्णन का डॉक्यूमेंट (Document) इन्वेस्टर पिच डेक के नाम से जाना जाता है. यह संभावित निवेशकों को आपके बिज़नेस आइडिया के बारे में उत्साहित करता है और आपके व्यवसाय के बारे में बातचीत करने में संलग्न करता है.

याद रखें, आपकी पिच डेक और इसकी प्रस्तुति ऐसी शुरूआती चीजें हैं जिससे निवेशक को आपकी कंपनी और आपके व्यापारिक विचार के बारे में पहली जानकारी मिलती है. सिर्फ पहली मीटिंग के बाद शायद ही कोई निवेश होता है इसलिए आपका लक्ष्य आपकी कंपनी में निवेशक की दिलचस्पी बढ़ाना और कंपनी के बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त करने की उत्सुकता बढ़ाना है.

आइये कुछ खास बातों पर नजर डालें जिन पर ध्यान देकर आप एक अच्छी पिच डेक बना सकते हैं.

१- व्यापार का मूल उद्देश्य और बहुमूल्यता (Purpose And Value Proposition): हर व्यवसाय की नींव में एक बड़ा उद्देश्य होता है और इसकी ग्राहकों के लिए बहुमूल्यता बहुत जरूरी है. इसकी सूचना ज्यादातर लोग एक वाक्य में करते हैं, जैसे कि ”हम हिंदीभाषी क्षेत्र के युवा वर्ग को उद्यमिता का विशेष ज्ञान देकर उनका और इस क्षेत्र का सर्वसमावेशी विकास करना चाहते हैं.” इसको संक्षिप्त रखिये परन्तु यह इतना स्पष्ट होना चाहिए कि इन्वेस्टर के दिमाग में आपके बिज़नेस का बड़ा चित्र बनना शुरू हो जाये.

२- आपका बिज़नेस किस समस्या का समाधान करेगा: यदि आपका बिज़नेस किसी समस्या का समाधान नहीं कर रहा है तो इसको सफल बनाने में बहुत मेहनत लगेगी. आपको समस्या के बारे में अच्छे से बताना होगा तथा इस भाग को कहानी के माध्यम से अच्छे से समझाना पड़ेगा. समस्या का अच्छा वर्णन करने से आपके निवेशक की दिलचस्पी बढ़ेगी.

३- मार्केट और इसकी साइज़: इस स्लाइड (slide) में आपको मार्केट का आकार बताना होगा और आपके लक्ष्य में कौन सा विशेष खंड है. अपने विशेष खंड के बारे में अच्छे से बात करिए और हो सके तो तथ्यों (Data) के साथ प्रस्तुति करिए. आप जितना ही स्पष्ट रहेंगे, निवेशक का उतना ही ज्यादा विश्वास बढ़ेगा.

४- आपका समाधान (Solution): अब आपको अपने उत्पाद और सेवाओं के बारे में बताना होगा कि कैसे ग्राहकों की समस्या का समाधान किया जा सकता है. याद रहे, बिना समस्या और इसके आकार को परिभाषित किये इस स्लाइड पर ना आयें क्योंकि आपके बिज़नेस की प्रासंगिकता का पता नहीं चलेगा. ज्यादा तकनीकियों में ना जाएँ परन्तु किसी भी प्रश्न का जवाब देने के लिए तैयार रहें.

५- आप पैसा कैसे कमायेंगे (Revenue Model): यह बहुत ही महत्वपूर्ण स्लाइड है क्योंकि निवेशक के पैसों की वृद्धि कंपनी की कमाई पर बहुत हद तक निर्भर है. आपको अच्छे से बताना होगा कि आपके बिज़नेस को कैसे और कहाँ से कमाई होगी. आप अपने उत्पाद का मूल्य निर्धारण किस आधार पर कर रहे हैं और यह बाज़ार में उपलब्ध विकल्पों के मुकाबले कहाँ खड़ा है.

६- शुरूआती सफलता या ग्राहकों की मान्यता का प्रमाण: अगर आपके प्रोडक्ट को शुरूआती सफलता मिली है या कुछ ग्राहकों ने उपयोग किया है तो इस स्लाइड में जरुर बतायें. यह चाहे जितने भी छोटे स्तर पर क्यों न हो परन्तु बहुत ही महत्वपूर्ण है क्योंकि यह आपके बिज़नेस को ग्राहकों द्वारा दी हुई मान्यता का प्रमाण है. यह साबित करता है कि आपके बिज़नेस के लिए मार्केट है और निवेशक के पैसों के सहयोग से बिज़नेस को बड़ा बनाया जा सकता है.

७- मार्केटिंग और विक्रय योजना: आप अपने प्रोडक्ट की मार्केटिंग कैसे करेंगे, ग्राहकों तक कैसे पहुंचेंगे ताकि विक्रय बढ़ सके. निवेशक जानना चाहेगा कि आपने इन बातों पर विचार किया है या नहीं और आपकी सोच कितनी तार्किक (Logical) है.

८- आप और आपकी टीम कितनी उपयुक्त है: आप और आपकी टीम कैसे इस बिज़नेस को करने के लिए सही टीम है. सबके अनुभव और योग्यता के बारे में आपको बताना होगा. अगर आप की टीम पूरी नहीं है तो आप इस बात को भी बताइये कि किस तरह की योग्यता के लोगों की नियुक्ति आप करेंगे.

९- बिज़नेस का वित्तीय अनुमान: पूर्वानुमान ही सही, फिर भी संभावित निवेशक आपकी सोच को समझना चाहते हैं कि समय के साथ व्यापार कैसे बढ़ेगा और लाभदायक होने के लिए क्या करना होगा. अपने विक्रय पूर्वानुमान, व्यय पूर्वानुमान और अनुमानित मुनाफे का संक्षिप्त सारांश शामिल करना सुनिश्चित करें. आपको सुनिश्चित करना होगा कि पूर्वानुमान यथार्थवादी हो और अगर इसकी तुलना किसी स्थापित बिज़नेस या ढांचे से हो सके तो जरुर प्रस्तुत करें.

१०- प्रतिस्पर्धा (Competition): हर व्यवसाय में प्रतिस्पर्धा होती है जो प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष हो सकती है. ऐसा कहने की गलती कभी नहीं करें कि आपके क्षेत्र में कोई प्रतिस्पर्धा ही नहीं है. ध्यान से सोचें कि ग्राहक कौन सा वैकल्पिक उत्पाद उपयोग कर रहें हैं और आपका विकल्प कैसे बेहतर है.

११- निवेश और उसका उपयोग: आपको निवेशक से कितना पैसा चाहिए, प्रस्तावित नियम और शर्तें, आप इन पैसों का कब और किन कामों में इस्तेमाल करेंगें. इन सब बातों को भी अच्छे से समझाना होगा ताकि निवेशक को स्पष्ट रूप से पता चले कि आपकी सोच कितनी सही है.

१२- निवेशक को बाद में पैसे बाहर निकालने के संभावित तरीके: याद रहे, निवेशक का इरादा आपके बिज़नेस में निवेश करके पैसा बनाना होता है और बाद में उस बढ़े हुए पैसों को बाहर निकालने का संभावित रास्ता भी देखना जरुरी है. आप को कौन से बड़े बिज़नेस खरीद सकते हैं या फिर आप शेयर बाज़ार में कंपनी को लिस्ट कर सकते हैं, इन सभी संभावित रास्तों को बताइये.

ज्यादातार पेशेवर निवेशकों को आये दिन बहुत से व्यापारों की प्रस्तुति सुननी पड़ती है, इसलिए आपकी प्रस्तुति को सुनने के लिए उनकी ध्यान अवधि (Attention Span) बहुत ही कम रहती है. ऐसी हालत में एक उम्दा पिच डेक और उसकी अच्छी प्रस्तुति की अहमियत बहुत बढ़ जाती है.

हम आशा करते हैं कि यह लेख आपको उपयोगी लगा होगा और हम आपका विचार जानना चाहेंगे. हमें बताइये कि निवेशक के सामने प्रस्तुति के समय और कौन सी बातें आपको ध्यान में रखनी चाहिए.

हमारे मेलिंग सूची के लिए सब्सक्राइब करें।

सब्सक्राइब करने के लिए धन्यवाद!

कुछ गलत हो गया..


शेयर करें:-
  • 15
  •  
  •  
  •  
  •  
  • 1
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    16
    Shares

कमेन्ट करें