व्यापार मंत्र

एक सफल उद्यमी का गुण- कुशल नेतृत्व (effective leadership traits of successful entrepreneurs)

शेयर करें:-
  • 9
  •  
  •  
  •  
  • 1
  • 1
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    11
    Shares

नेतृत्व की कुशलता (good leadership skills) से किसी भी सामूहिक प्रयास को सफ़ल बनाया जा सकता है। ठीक यही बात व्यापार पर भी लागू होती है। कोई भी बिज़नेस उन्नति की ओर तभी अग्रसर होता है जब उसका प्रमुख अपने कुशल नेतृत्व से उसका संचालन करने में सक्षम हो।

Leadership styles/traits of successful business leaders in Hindi

योजनायें बनाने और उन्हें क्रियान्वित करने, अपनी टीम का सही मार्गदर्शन करने तथा अपने व्यापार को निरंतर प्रगति की ओर अग्रसर करने में एक entrepreneur का कुशल नेतृत्व बहुत मायने रखता है। यही कारण है कि एक सफ़ल उद्यमी बनने के लिए leadership qualities का होना आवश्यक है।

हमारे देश में स्व. धीरू भाई अंबानी, रतन टाटा, एन.आर. नारायण मूर्ति, अज़ीम प्रेमजी, कुमार मंगलम बिड़ला, मुकेश अंबानी, उदय कोटक, इंदिरा नूई, किरण मजूमदार शॉ, नीलम धवन जैसे अनेकों ऐसे सफल उद्यमी हैं जिनकी सफ़ल नेतृत्व क्षमता सभी युवा उद्यमियों के लिए प्रेरणा का स्त्रोत है।

कुछ लोगों का मानना है कि नेतृत्व की क्षमता किसी भी उद्यमी में जन्मजात होती है। किन्तु, अन्य किसी कौशल की ही भांति, निरंतर प्रयास और अभ्यास से नेतृत्व के गुणों को अपनाकर उसमे दक्षता प्राप्त की जा सकती है। आइये सफ़ल उद्यमियों के नेतृत्व की उन विशेषताओं (leadership traits of successful entrepreneurs) के बारे में जानते हैं जो उन्हें एक सफ़ल leader बनाती हैं।

 

1. दूरदर्शिता एवं अनुकूलनशीलता (Vision & Adaptability)

एक सफल उद्यमी वर्तमान समय के साथ ही भविष्य को ध्यान में रखते हुए निर्णय लेता है। वह बदलते वक़्त के साथ उपभोक्ताओं की ज़रूरतों और उनकी रुचि में होने वाले परिवर्तनों पर ग़ौर करता है और उसके अनुसार योजना बनाकर काम करता है।

भारत के मशहूर उद्योगपति मुकेश अंबानी इसका जीता जागता उदाहरण हैं। उनके द्वारा स्थापित ‘रिलायंस जियो’ (Reliance Jio) की अपार सफ़लता से हर कोई परिचित है। यह उनकी दूरदर्शिता का ही परिणाम है कि जियो ने आज करोड़ों ग्राहकों का दिल जीतकर टेलीकॉम सेक्टर में अपनी एक अलग पहचान कायम की है।

 

2. संवाद कौशल एवं विचारों में स्पष्टता (Communication Skills)

किसी भी बिज़नेस का सफ़लतापूर्वक संचालन करने के लिए अच्छा communication skill का होना ज़रूरी है। साथ ही एक उद्यमी के विचारों में स्पष्टता होनी चाहिये ताकि वह अपनी बात को ठीक तरह दूसरों के समक्ष प्रस्तुत कर सके। इससे अच्छे व्यापारिक संबंध बनाने में मदद मिलती है। साथ ही अपने साथी सदस्यों और सहयोगियों के साथ मिलकर काम करने में आसानी भी होती है।

 

3. टीम के सदस्यों का सहयोग और समर्थन करना (Supportive Leadership)

एक छोटी सी शुरुआत से सफ़लता के शिखर पर पहुँचने वाले उद्यमी अपनी टीम को खूब महत्त्व देते हैं। वे अपनी टीम के सदस्यों के विचारों का खुले दिल से स्वागत करते हैं और सबके साथ मिलकर काम करते हैं। साथ ही वे अपने साथी सदस्यों के प्रयासों का समर्थन कर उनका मनोबल भी बढ़ाते हैं। आदित्य बिड़ला समूह (Aditya Birla Group) के अध्यक्ष, कुमार मंगलम बिड़ला भी किसी उद्यम की सफ़लता के लिए एक बेहतरीन टीम के निर्माण को बहुत ज़रूरी मानते हैं।

 

4. आत्मविश्वास (Self Confidence)

एक कुशल उद्यमी के आत्मविश्वास की झलक आपको उसके निर्णय और काम में देखने को मिल जाती है। अपने प्रयासों, अपनी सफ़लताओं और असफ़लताओं के अनुभव से उनमें वो आत्मविश्वास आता है जो उन्हें किसी भी मुश्किल का हल खोजने में सक्षम बनाता है।

 

5. अपनी सफ़लता का श्रेय पूरी टीम को देना (Inclusive Leadership)

कोई भी उद्यम तभी सफ़ल होता है जब उससे जुड़ा प्रत्येक व्यक्ति उसके विकास में अपना सौ प्रतिशत योगदान देता है। इसलिए सफ़ल उद्यमी अपनी सफ़लता का श्रेय अकेले नहीं लेते बल्कि उसका श्रेय वे अपनी पूरी टीम को देते हैं।

6. सकारात्मक दृष्टिकोण (Positive Mindset)

सफल उद्यमी सदैव आशावादी सोच के साथ काम करते हैं। ऐसे उद्यमी किसी भी स्थिति का सामना करने को तैयार रहते हैं। इतना ही नहीं अपने सकारात्मक दृष्टिकोण के बलबूते वे हर असंभव दिखने वाले काम को संभव करने का कोई न कोई रास्ता खोजने का दम भी रखते हैं।

 

7. ईमानदारी और समर्पण की भावना (Integrity & Commitment)

एक सफ़ल उद्यमी अपने कार्य के प्रति पूरी तरह ईमानदार और समर्पित होता है। उसका यह गुण उसे हर बाधा को पार करके अपने व्यवसाय को सफ़ल बनाने के लिए प्रेरित करता है।

‘रिलायंस’ (Reliance) के संस्थापक, स्व. धीरूभाई अंबानी उद्योग जगत का एक जाना-माना नाम हैं। सालों पहले उन्होंने एक छोटे से व्यवसाय की शुरुआत की और उसे अपने समर्पण भाव से इस तरह आगे बढ़ाया कि उसकी सफ़लता आज लाखों उद्यमियों के लिए प्रेरणा का स्त्रोत है।

 

8. हर समय कुछ नया सीखने और करने के इच्छुक (Continuous Improvement)

एक व्यवसाय को सफ़ल बनाने के लिए समय-समय पर कुछ नया करते रहना ज़रूरी है। इसलिए किसी भी उद्यमी को हर समय कुछ नया सीखते रहना चाहिए। समय के साथ परिवर्तन को स्वीकार कर उसके अनुसार अपने उद्यम को आगे बढ़ाना चाहिए। साथ ही अपने उद्यम के विकास को गतिशील बनाये रखने के लिये नए-नए व्यावसायिक अवसरों की ख़ोज करते रहना भी ज़रूरी है।

 

9. सोच विचार कर जोख़िम लेना (Risk Takers)

व्यवसाय की उन्नति के लिए कई बार कुछ जोख़िम भरे निर्णय भी लेने पड़ते हैं जिनका असर भविष्य में सकारात्मक भी हो सकता है और नकारात्मक भी। ऐसे में उद्यमी को पूरी तरह सोच विचार कर ही कोई भी जोख़िम उठाना चाहिए।

 

10. लक्ष्य प्राप्ति की प्रतिबद्धता (Determined To Win)

उद्यमी को अपने लक्ष्य की प्राप्ति के लिए दृढ़ निश्चयी होना चाहिए। उद्यमिता की राह में कई बार बहुत सी ऐसी बाधायें आ जाती हैं जो उद्यमी का मनोबल कम करके उसे पीछे हटने को मज़बूर कर देती हैं। ऐसी स्थिति में अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के प्रति प्रतिबद्धता ही उद्यमी का मनोबल बनती है और उसे हालात का डटकर सामना करने का साहस प्रदान करती है।

हम आशा करते हैं कि यह लेख आपको पसंद आया होगा। क्या आप सफल उद्यमी का कोई और गुण इस सूची में शामिल करना चाहेंगे? हमें अपने विचार जरुर लिखें।

हमारे मेलिंग सूची के लिए सब्सक्राइब करें।

सब्सक्राइब करने के लिए धन्यवाद!

कुछ गलत हो गया..


शेयर करें:-
  • 9
  •  
  •  
  •  
  • 1
  • 1
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    11
    Shares

कमेन्ट करें