प्रेरणादायक कहानियाँ

लग्ज़री फ़ैशन का असंभव से परिचय कराने वाली लन्दन की एक मशहूर फ़ैशन जर्नलिस्ट – नैटली मैस्सने

शेयर करें:-
  • 97
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    97
    Shares

आज के समय में लगभग हर छोटीबड़ी चीज़ ऑनलाइन उपलब्ध है। बस एक क्लिक पर सब कुछ घर बैठे आसानी से ख़रीदा जा सकता है। लेकिन अभी से 18-20 साल पहले ऐसा कर पाना इतना आसान काम नहीं था। उस समय गिनेचुने ऑनलाइन स्टोर्स ही हुआ करते थे और साथ ही उन पर उपलब्ध उत्पादों की संख्या भी सीमित थी। उस दौर में नैटली मैस्सने (Natalie Massenet जिसका सही उच्चारण है – नैटली मैस्सने) ने नेटपोर्टर (Net-A-Porter) नामक एक ऐसे ऑनलाइन पोर्टल (कॉमर्स वेबसाइट) की स्थापना की जिस पर पहली बार ब्रांडेड डिज़ाइनर फ़ैशन ऑनलाइन रिटेल बिक्री के लिए उपलब्ध हुआ।

उस समय ऐसा करना तो दूर सोचना भी रिस्की था क्योंकि उस समय अधिकतर लोग दुकानों और बूटीक से ही फ़ैशन प्रोडक्ट्स खरीदने में विश्वास करते थे। लेकिन आज नैटली मैस्सने और नेटपोर्टर दोनों ही फ़ैशन जगत के जानेमाने नाम हैं। नैटली की कहानी फ़ैशन जगत की सबसे पसंदीदा सेल्फमेड सफल कहानियों में से एक है जिसने हाईएन्ड फ़ैशन की दुनिया को एक नया आयाम दिया।

फ़ैशन सेंस और दूरदर्शिता का बेहतरीन मेल

नेट-ए-पोर्टर की संस्थापिका नैटली मैस्सने एक प्रख्यात फ़ैशन उद्यमी, ब्रिटिश फ़ैशन कॉउन्सिल (British Fashion Council) की चेयरमैन (2013-वर्तमान) और पूर्व फ़ैशन जर्नलिस्ट हैं। नैटली का जन्म मई 1965 में अमेरिका के कैलिफ़ोर्निया स्टेट में हुआ। नैटली के पिता एक फिल्म पब्लिसिस्ट एवं पूर्व अमेरिकन जर्नलिस्ट थे और उनकी माँ एक मशहूर फैशन मॉडल थीं। नैटली ने अपने करियर के शुरुआती दौर में एक साल टोक्यो में बतौर फ़ैशन मॉडल और स्टाइलिस्ट के रूप में काम किया। उनके फ़ैशन जर्नलिस्ट करियर की शुरुआत 1993 में ‘विमेंस वियर डेली’(WWD) के साथ हुई। इस जॉब के दौरान उन्हें हॉलीवुड की फिल्मों से सम्बंधित मशहूर अवार्ड्स ऑस्कर्स (Oscars) को भी कवर करने का मौका मिला। कुछ समय बाद उनकी शादी हुई और नैटली लंदन शिफ़्ट हो गईं। 1996 में उन्होंने बतौर फ़ैशन लेखिका ‘टैटलर’ (Tatler) को ज्वाइन किया और वहाँ फैशन इंडस्ट्री की जानी मानी हस्तियों के साथ काम किया। दो साल वहाँ काम करने के बाद 1998 में नैटली ने स्वतंत्र रुप से एक फ्रीलांसर जर्नलिस्ट की तरह काम करना शुरू कर दिया।
Embed from Getty Images
नैटली की अन्तःप्रेरणा (इंस्टिंक्ट) और उनकी दूरदर्शिता में गज़ब का तालमेल है। नेट-ए-पोर्टर की स्थापना से पहले भी एक बार उन्होंने अपना बिज़नेस करने का मन बनाया था और तब उनकी योजना कॉफ़ी शॉप्स की एक चेन शुरू करने की थी। जब उन्होंने इस बारे में बिज़नेस एक्सपर्ट्स से सलाह लिया तो सभी का यह कहना था कि इस काम में मुनाफ़ा नहीं है लेकिन उसके कुछ ही महीनों बाद ‘स्टारबक्स’ (कॉफीहाउस चेन) लॉन्च हुआ जिसकी सफलता से आज सभी अच्छी तरह परिचित हैं।

केवल इतना ही नहीं, नेट-ए-पोर्टर के शुरुआती दौर में भी अधिकतर लोगों का यही मानना था कि इस ऑनलाइन बिज़नेस का सफल होना नामुमकिन है। ऐसे में नेट-ए-पोर्टर फैशन के उन हाई एंड ब्रांड्स को ऑनलाइन उतारने की कोशिश कर रहा था जिसे लोग पैसे खर्च करने से पहले अच्छी तरह जांचने परखने में विश्वास रखते थे और पसंद आई वस्तु को बिना फील किये हुए खरीदने की कल्पना भी नहीं कर सकते थे। लेकिन नैटली पर इन बातों का कोई असर नहीं हुआ और लोगों को ऑनलाइन फैशन मैगज़ीन पलटते हुए पसंद आये सामान को ‘एक क्लिक’ में ही उपलब्ध करवाने के अपने सपने को पूरा करने के फैसले पर कायम रहीं और अंततः नेट-ए-पोर्टर की गगनचुम्बी सफलता ने उनके सभी आलोचकों को ग़लत साबित कर ही दिया। नैटली सिर्फ बिज़नेस माइंडेड ही नहीं बल्कि उनका फ़ैशन सेंस भी काबिल-ए-तारीफ़ है। सुप्रसिद्ध फ़ैशन पत्रिका ‘वोग’ (Vogue) द्वारा उन्हें दुनिया की सबसे ग्लैमरस महिलाओं में से भी एक चुना जा चुका है।

नेटपोर्टर की स्थापना

नैटली एक बार एक फ़ैशन शूट के लिए कुछ प्रोडक्ट्स ऑनलाइन ढूंढ रही थीं। उस समय उन्हें कुछ डिज़ाइनर फ़ैशन प्रोडक्ट्स को ऑनलाइन ख़रीदने में बहुत परेशानी का सामना करना पड़ा क्योंकि उस समय डिज़ाइनर फ़ैशन की बिक्री ऑनलाइन नहीं हुआ करती थी। नैटली को इस बात से काफी हैरानी हुई कि आमेज़न (Amazon) जैसे तेज़ी से बढ़ते ऑनलाइन शॉप्स के होते हुए भी हाई एंड डिज़ाइनर फैशन प्रोडक्ट्स को ऑनलाइन मार्केट में बेचने वाला कोई नहीं है। तब नैटली के मन में मैगज़ीन जैसे फार्मेट वाला एक ऐसा ऑनलाइन पोर्टल बनाने का विचार आया जिस पर डिज़ाइनर फ़ैशन की रिटेल बिक्री हो और प्रोडक्ट की फ़ोटो पर बस एक क्लिक करके ही उसे आसानी से ऑनलाइन ख़रीदा जा सके।

अपने इसी आइडिया के साथ नैटली ने जून 2000 में नेट-ए-पोर्टर नामक डिज़ाइनर फ़ैशन पोर्टल की स्थापना की। उस समय उन्होंने लन्दन के चेल्सी स्थित अपने फ्लैट से बहुत छोटे स्तर पर इस बिज़नेस की शुरुआत की और इसमें निवेश के लिए अपने तत्कालीन पति की मदद से 12 लाख पाउंड्स की धनराशि जुटाई। डिज़ाइनर फ़ैशन की ऑनलाइन रिटेल बिक्री करने का नैटली का यह आइडिया शुरुआत में बड़े-बड़े फ़ैशन डिज़ाइनर्स और निवेशकों (इन्वेस्टर्स) को खास पसंद नहीं आया। दरअसल उस दौर में किसी शोरूम या बूटीक के अलावा कहीं और डिज़ाइनर प्रोडक्ट्स की बिक्री होना सिर्फ कल्पना में ही संभव माना जाता था।

असंभव से संभव हुआ नेटपोर्टर का यादगार सफर

डिज़ाइनर फ़ैशन की ऑनलाइन रिटेल बिक्री के असंभव काम को नैटली ने संभव कर दिखाया। 2001 में उन्होंने एक फ़्रेंच फ़ैशन डिज़ाइनर को अपना पहला कलेक्शन नेट-ए-पोर्टर की वेबसाइट के जरिये बेचने के लिए सहमत कर लिया। नैटली का यह ई-कॉमर्स बिज़नेस धीरे-धीरे लोगों के बीच अपनी पहचान बनाने के साथ रफ़्तार पकड़ने लगा और वर्ष 2004 तक पहुँचते-पहुँचते उनकी कंपनी को मुनाफ़ा होने लगा, जिसके साथ ही ‘नेट-ए-पोर्टर’ को ब्रिटिश फ़ैशन अवॉर्ड्स में ‘बेस्ट फ़ैशन शॉप’ का अवॉर्ड भी प्राप्त हुआ।
Embed from Getty Images

वर्तमान समय में नेट-ए-पोर्टर ग्रुप 170 देशों में 60 लाख से भी ज़्यादा कस्टमर्स को लग्ज़री फ़ैशन प्रोडक्ट्स की डिलीवरी करता है। नेट-ए-पोर्टर की शानदार सफलता के बाद उन्होंने नेट-ए-पोर्टर ग्रुप के अंतर्गत 2009 में ‘द आउटलेट’ नामक एक ऑफ़-प्राइस (डिस्काउंट) वेबसाइट की शुरुआत की। 2010 में स्विस लग्ज़री ब्रांड्स ग्रुप ‘रिचमोंट’ ने नेट-ए-पोर्टर को खरीद लिया। लेकिन उसके बाद भी नैटली एग्जीक्यूटिव चेयरमैन और इन्वेस्टर के रूप में इस कंपनी से जुड़ी रहीं। नेट-ए-पोर्टर ग्रुप ने 2011 में मेन्सवियर प्लेटफॉर्म ‘मिस्टर पोर्टर’ को लॉन्च किया। 2013 में एक ब्यूटी सेग्मेंट भी लॉन्च किया गया और अगले ही साल 2014 की शुरुआत में नैटली ने अपनी पूर्व सहकर्मी के साथ मिलकर ‘पोर्टर’ नामक एक फ़ैशन मैगज़ीन (प्रिंट पब्लिकेशन) लॉन्च किया।

ब्रांड्स के साथ ही अपनी लग्ज़री पैकेजिंग के लिए भी मशहूर

नेट-ए-पोर्टर के शुरुआती समय में बहुत कम ही लोग ऐसे थे जिन्हें इसकी सफलता की उम्मीद थी। लेकिन नैटली का यह बिज़नेस अपने कस्टमर्स का दिल ही नहीं बल्कि बड़े ब्रांड्स का भरोसा भी जीतने में सफल रहा। जैसे-जैसे नेट-ए-पोर्टर की लोकप्रियता बढ़ने लगी जाने-माने लग्ज़री ब्रांड और डिज़ाइनर्स उससे जुड़ने के लिए होड़ लगाने लगे। आज नेट-ए-पोर्टर द्वारा चुना जाना फैशन ब्रांड्स के लिए एक प्रतिष्ठित बात हो गई है और ग्राहक नेट-ए-पोर्टर द्वारा बेचने वाले नए ब्रांड्स को आसानी से स्वीकार लेते हैं क्योंकि उन्हें नेट-ए-पोर्टर अथवा नैटली पर भरोसा है। स्टेला मैक्कार्टनी (Stella McCartney), इव्स सेंट लॉरेन (Yves Saint Laurent) और एलेग्ज़ेंडर वांग (Alexander Wang) जैसे अनेकों नामचीन डिज़ाइनर्स इस पोर्टल से जुड़ हुये हैं।

नैटली ने नेट-ए-पोर्टर की शुरुआत के साथ फ़ैशन जगत को बहुत कुछ नया दिया भी और सिखाया भी। उन्होंने ब्रांड्स और प्रोडक्ट्स के साथ ही पैकेजिंग पर भी ख़ास ध्यान दिया। शुरुआत के समय से ही नेट-ए-पोर्टर के प्रोडक्ट्स की डिलीवरी डॉटेड रिबन से बंधे हुए ब्लैक लग्ज़री बॉक्स में की जाती है जो कस्टमर्स को एक लग्ज़री गिफ़्ट पाने जैसा एहसास कराता है। यही कारण है कि नेट-ए-पोर्टर सिर्फ़ अपने लग्ज़री ब्रांड्स के लिए ही नहीं बल्कि अपनी शानदार पैकेजिंग के लिए भी जाना जाता है।

नेटपोर्टर और यूक्स का बहुचर्चित एवं विवादित मर्जर

अक्टूबर 2015 में यूक्स (Yoox) ग्रुप और नेट-ए-पोर्टर ग्रुप का मेगा मर्जर (विलय) हुआ। इस मर्जर के फ़ैसले को लेकर नैटली और उनके सहयोगियों का रिचमोंट ग्रुप के साथ विवाद भी हुआ जो लम्बे समय तक मीडिया की सुर्ख़ियों में बना रहा। अंततः सितम्बर 2015 में नैटली ने नेट-ए-पोर्टर ग्रुप छोड़ने का फैसला लिया क्योंकि इन 15 सालों में ‘नेट-ए-पोर्टर’ की पहचान दुनिया के प्रीमियर लग्ज़री पोर्टल्स में बन चुकी थी और नैटली ने बिज़नेस की जिम्मेदारी नए मालिकों के ऊपर छोड़ देना ही उचित समझा।

बिज़नेस कहानी की राय

नैटली मैस्सने फ़ैशन जगत का जाना पहचाना और प्रतिष्ठित नाम है। फ़ैशन एवं रिटेल उद्योग को सराहनीय योगदान के लिए उन्हें पूरी दुनिया में बहुत सम्मान और ढेर सारे पुरस्कार मिले। यह बात बिल्कुल गलत नहीं है कि जब कोई व्यक्ति असंभव दिखने वाले सपने को हासिल करने के लिए आगे बढ़ता है तो बहुत कम ही लोग उसके ऊपर भरोसा रखते हैं और ज्यादातर लोग उसको आगे नहीं जाने की सलाह देते हैं। यह मामूली हिम्मत की बात नहीं है, जब ऑनलाइन बिज़नेस की दुनिया में मार्च 2000 से डॉट कॉम बबल फटने से भूकंप आया हुआ था और एक दिन में सैकड़ों बिज़नेस बर्बाद हो रहे थे, ऐसे समय में नैटली ने ‘नेट-ए-पोर्टर’ जैसे ऑनलाइन बिज़नेस आइडिया के ऊपर काम करना शुरू कर दिया। अपनी सोच पर भरोसा रखते हुए आगे बढ़ने वालों को शुरू में बहुत मुश्किलों का सामना करना पड़ता है परन्तु हार नहीं मानने वालों को फिर पूरा ब्रह्मांड मदद करना शुरू कर देता है।

हम उम्मीद करते हैं कि यह कहानी आपको बहुत प्रेरणादायक लगी होगी और आप इसको अभी अपने मित्रों से शेयर करेंगे।

हमारे मेलिंग सूची के लिए सब्सक्राइब करें।

सब्सक्राइब करने के लिए धन्यवाद!

कुछ गलत हो गया..


शेयर करें:-
  • 97
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    97
    Shares

कमेन्ट करें