प्रेरणादायक कहानियाँ

डेनमार्क के एक बेसमेंट में शुरू हुई छोटी सी कंपनी बनी पूरे यूरोप के स्टार्टअप्स के लिए सफ़लता की मिसाल

शेयर करें:-
  • 21
  •  
  •  
  •  
  •  
  • 1
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    22
    Shares

जब घर पर खाना बनाने का समय ना हो या घर बैठे बाहर का खाना खाने का मन हो तो ज़्यादातर लोग ऑनलाइन खाना ऑर्डर करते हैं। इससे समय की बचत भी होती है और कहीं आने-जाने का झंझट भी नहीं रहता।

आजकल अधिकतर रेस्टोरेंट्स या फ़ूड आउटलेट्स अपने ग्राहकों को ऑनलाइन ऑर्डर बुकिंग के साथ ही होम डिलीवरी की सेवा भी उपलब्ध कराते हैं। ऐसे में आपको खाना लेने के लिए किसी रेस्टोरेंट या फ़ूड आउटलेट तक जाने की ज़रूरत नहीं पड़ती। बस अपनी पसंदीदा जगह से ऑनलाइन खाना ऑर्डर करने के थोड़े ही समय में खाना आपके घर पहुँच जाता है। ऑनलाइन फ़ूड ऑर्डर एवं डिलीवरी सेवा की यही ख़ासियत इसे सबका पसंदीदा बनाती है।

रेस्टोरेंट्स को उनके ग्राहकों से जोड़ने में ऑनलाइन फ़ूड ऑर्डर की सेवा अहम भूमिका निभाती है। आज के समय में यह सुविधा उपलब्ध कराने वाली वेबसाइटों और मोबाईल ऐप्स की बहुत ज़्यादा माँग है।

दुनिया के 12 देशों में ऑनलाइन फ़ूड ऑर्डरिंग की सेवा देने वाली इस क्षेत्र की दिग्गज कंपनी ‘जस्ट ईट’ (Just Eat PLC) इसका बेहतरीन उदाहरण है।

डेनमार्क के एक बेसमेंट में एक छोटी सी ऑनलाइन फ़ूड ऑर्डरिंग कंपनी के रूप में शुरू हुई जस्ट ईट आज लगभग 5.5 बिलियन यूरो (550 करोड़ यूरो) के मूल्यांकन वाले विशाल समूह Just Eat Group का रूप ले चुकी है।

 

क्या है जस्ट ईट?

लंदन स्थित ‘जस्ट ईट’ एक ऑनलाइन फ़ूड ऑर्डरिंग कंपनी (online food ordering company) है जिसके ज़रिये आप घर बैठे ही अपनी पसंद के किसी भी रेस्टोरेंट या टेक-अवे फ़ूड आउटलेट (restaurant or takeaway food outlet) से ऑनलाइन खाना ऑर्डर कर सकते हैं। यह विभिन्न रेस्टोरेंट्स तथा ग्राहकों के बीच एक मध्यस्थ का काम करती है।

ग्राहक जस्ट ईट की वेबसाइट या मोबाइल ऐप पर विभिन्न रेस्टोरेंट्स के मेनू की सूची में से अपनी पसंद का विकल्प चुनकर खाना ऑर्डर करते हैं। जस्ट ईट रेस्टोरेंट की ओर से ग्राहक का ऑर्डर बुक करती है और उसकी सूचना रेस्टोरेंट को देती है। उसके बाद ग्राहक द्वारा उपलब्ध कराये गए पते पर रेस्टोरेंट की होम डिलीवरी सेवा द्वारा खाना पहुँचा दिया जाता है। हर एक ऑर्डर की बुकिंग पर जस्ट ईट को रेस्टोरेंट से एक निर्धारित कमीशन की प्राप्ति होती है।

 

कैसे हुई जस्ट ईट की शुरुआत?

जस्ट ईट (Just Eat) मूल रूप से डेनमार्क की कंपनी है जिसकी स्थापना पाँच डैनिश उद्यमियों (Danish entrepreneurs) ने मिलकर की थी। अगस्त 2001 में डेनमार्क के एक छोटे से शहर में इस कंपनी को आधिकारिक रूप से लॉन्च किया गया।

जस्ट ईट की शुरुआत इसके सह-संस्थापक और डेनमार्क के जाने-माने उद्यमी, येस्पर बुक (Jesper Buch) ने सन् 2000 में की थी। इसका आइडिया उन्हें तब आया जब एक दिन काम करते हुए उन्होंने खाना ऑर्डर करने की सोची लेकिन उन्हें रेस्टोरेंट का फ़ोन नंबर नहीं मिला। बस तभी उनके मन में विचार आया कि क्यों न एक ऐसा ऑनलाइन प्लैटफॉर्म तैयार किया जाये जिसके ज़रिये घर बैठे आसानी से ही किसी भी रेस्टोरेंट का खाना ऑर्डर किया जा सके।

2001-2004 तक जस्ट ईट को डेनमार्क में अच्छी सफ़लता मिली लेकिन 2004 में कंपनी की स्थिति बिगड़ने लगी। तब 2005 में येस्पर ने सब कुछ नए सिरे से तैयार करने का फ़ैसला लिया और यूनाइटेड किंगडम की ओर रूख किया।

उस समय ऑनलाइन फ़ूड ऑर्डरिंग सेवा के लिए यूके एक बढ़िया बाज़ार था क्योंकि यूरोप का लगभग 50% फ़ूड डिलीवरी का व्यवसाय यूके में ही स्थापित था। वहाँ येस्पर ने नई शुरुआत करते हुए जस्ट ईट की नई वेबसाइट just-eat.co.uk लॉन्च की।

इसके 2006 में जस्ट ईट ने यूके की ऑनलाइन फ़ूड ऑर्डरिंग कंपनियों – ईटस्टूडेंट (EatStudent), अर्बनबाइट (Urbanbite) और फ़िल माय बेली (Fill My Belly) के अधिग्रहण किया और इस तरह धीरे-धीरे कंपनी ने अपना विस्तार करना शुरू किया।

A post shared by Jesper Buch (@jesperbuch) on

वेंचर फ़ंडिंग से किया अंतर्राष्ट्रीय विस्तार

2008 में येस्पर ने अपने शेयर्स का एक हिस्सा इंडेक्स वेंचर्स (Index Ventures) को बेचा और मुख्य कार्यकारी अधिकारी (CEO) का पद छोड़ दिया। इसके अगले ही साल 2009 में जस्ट ईट पहले फ़ंडिंग राउंड में इंडेक्स वेंचर्स और तत्कालीन शेयरधारकों से लगभग 1.65 करोड़ डॉलर जुटाने में सफल रही। इसके साथ ही शुरू हुआ जस्ट ईट का अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहुँच बनाने का शानदार सफ़र।

फ़ंडिंग से मिली पूँजी के जरिये ऑनलाइन फ़ूड डिलीवरी के क्षेत्र से जुड़ी विभिन्न कंपनियों का अधिग्रहण करते हुए जस्ट ईट ने एक-एक करके विभिन्न देशों में अपना व्यवसाय स्थापित करना शुरू कर दिया।

जस्ट ईट के बेहतरीन प्रदर्शन का ही नतीज़ा था कि 2014 में यह कंपनी 244 करोड़ डॉलर के प्रारंभिक सार्वजानिक पेशकश (IPO) के साथ लंदन स्टॉक एक्सचेंज (London Stock Exchange) पर सूचीबद्ध हुई।

 

बिज़नेस कहानी की राय

जस्ट ईट 2018 तक यूके, ऑस्ट्रेलिया, न्यूज़ीलैण्ड, कनाडा, आयरलैंड, फ़्रांस, नॉर्वे, स्विट्ज़रलैंड, इटली, स्पेन और मैक्सिको सहित दुनिया के 12 देशों में अपनी पहुँच बना चुका है। इसके अतिरिक्त अन्य कुछ देशों में इसकी सहभागी कंपनियाँ अपनी सेवाएं दे रही हैं।

वर्तमान में दुनिया भर में इसके 1.9 करोड़ ग्राहक हैं और लगभग 82,300 रेस्टोरेंट्स इस कंपनी के साथ जुड़े हुए हैं। अकेले यूके में ही जस्ट ईट के साथ लगभग 28,000 रेस्टोरेंट्स सम्बद्ध हैं जो किसी भी अन्य ऑनलाइन फ़ूड ऑर्डरिंग सेवा के मुक़ाबले कहीं ज़्यादा है।

एक छोटी सी शुरुआत से इतनी बड़ी सफ़लता हासिल करना कोई आसान बात नहीं। लेकिन जस्ट ईट ने ना केवल ऐसा कर दिखाया बल्कि यूरोप के सभी स्टार्टअप्स के लिए ई-कॉमर्स के क्षेत्र में सफ़लता की एक बेहतरीन मिसाल भी कायम की है।

 

इस कहानी पर अपने विचार जरुर भेजें और हमारी वेबसाइट को सब्सक्राइब करना ना भूलें।

 

हमारे मेलिंग सूची के लिए सब्सक्राइब करें।

सब्सक्राइब करने के लिए धन्यवाद!

कुछ गलत हो गया..


शेयर करें:-
  • 21
  •  
  •  
  •  
  •  
  • 1
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    22
    Shares

कमेन्ट करें